गले में खराश और बलगम आना

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप? आज का हमारा विषय है,गले में खराश और बलगम आना, आजकल जिसे देखो उसे कुछ ना कुछ एलर्जी होती ही रहती हैं। किसी को धूल मिट्टी की एलर्जी, किसी को त्वचा संबंधित एलर्जी हो जाती है। गले में खराश और बलगम आना इसी समस्या में से एक है। कई सारे लोगों को गले में खराश महसूस होती हैं; लेकिन कुछ देर बाद वह अपने आप ठीक हो जाती है। यह एक सामान्य स्थिति होती हैं। लेकिन, कई लोगों को गले में बार-बार कफ जमा होते रहते हैं और खराश आती हैं। ऐसे में, इस पर ध्यान देना बहुत जरूरी हो जाता है।

गले में जमा होनेवाले कफ फेफड़ों में या निचले श्वसन तंत्र में बनते हैं।  इस बलगम में बैक्टीरिया और वायरस जमा हो जाते हैं और कई स्वास्थ्य संबंधित समस्याएं उत्पन्न कर देते हैं। कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को किसी भी चीज से जल्दी एलर्जी हो जाती है। धूल, मिट्टी, प्रदूषण तथा किसी विशिष्ट खाद्य पदार्थ की एलर्जी से हमें गले में खराश उत्पन्न हो जाती है और कफ जमा हो जाते हैं। ऐसे खाद्य पदार्थों में ठंडी चीजें जैसे; आइसक्रीम, छास, दही, ठंडा पानी आदि का समावेश हो सकता है। तो दोस्तों, आज जानेंगे गले में खराश और बलगम आने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे।

गले में खराश और बलगम के कारण

प्रदूषण के एलर्जी के साथ-साथ, गले में खराश और बलगम आने के कई कारण हो सकते हैं।

१) नाक या गले में किसी तरह का संक्रमण होना।

२) फेफड़ों की समस्या या विकार होना।

३) बुखार, फ्लू या अन्य वायरल इन्फेक्शन होना।

४)  प्रदूषण, धूल या किसी खाद्य पदार्थ से से एलर्जी होना।

५) धूम्रपान, अधिक मसालेदार पदार्थों का सेवन करना।

गले में खराश और बलगम आने के लक्षण

जब हमारे गले में बलगम जमा हो जाता है, तो वह काफी अवरोध उत्पन्न करता है। इसके लक्षण तुरंत दिखा दिखने शुरू हो जाते हैं

१) गले में खुजली, दर्द होना और कुछ अटका सा लगना।

२) रात के समय खांसी का बढ़ना।

३) गला साफ करने के लिए बार-बार खासना और थुंकना।

४) जी मचलना।

५) मुंह से बदबू आना।

गले में खराश और बलगम आने के घरेलू उपाय

गले में खराश और बलगम जमा होने के लिए हम आपको कुछ घरेलू नुस्खे बताएंगे; जिनका इस्तेमाल करके आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं।

१) पानी-

गले में खराश होने की वजह से हमारे शरीर से पानी की मात्रा कम हो जाती है और बलगम सुखा हो जाता है। इसीलिए, पानी उचित मात्रा में पीना चाहिए; जिससे कि बलगम पतला हो जाए और वह आसानी से बाहर निकल सके। जितना हो सके उतना गर्म या हल्का गुनगुना पानी पीने की कोशिश करें। इससे आपके गले को काफी राहत मिलती है।

२) नमक हल्दी के पानी के गरारे-

गले में खराश और बलगम जमा हो जाने की वजह से गले में दर्द महसूस होता है। चुटकी भर हल्दी और सेंधा नमक हल्के गुनगुने पानी में डालकर अच्छे से मिला लें। इस पानी से गरारे करें। इसका प्रयोग आप दिन में दो बार कर सकते हैं। इस प्रयोग से आपके गले में हो रहा दर्द कम होता है और कफ पतला हो जाता है; जिससे कि वह आसानी से बाहर निकल जाता है।

३) अदरक-

गले से संबंधित समस्याओं के लिए अदरक बहुत ही गुणकारी होता है। अदरक को कद्दूकस कर लें और उसका रस निकाल लें। इस रस में शहद मिलाकर इसका सेवन करें। इस पर गर्म या हल्का गुनगुना पानी पी लें। इससे गले में हो रही खराश कम हो जाती है और कफ भी पिघल जाते हैं। अदरक में एंटीबैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं, जो गले में किसी भी संक्रमण को बढ़ने से रोकते है।

४) हल्दिवाला दूध-

गले में खराश, खांसी, सर्दी, जुकाम आदि समस्याओं के लिए हल्दी वाला दूध पुराने जमाने से उपयोग में ला रहे हैं। हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटीसेप्टिक तत्व अधिक मात्रा में पाए जाते हैं; जो हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं और खांसी, सर्दी को कम करते हैं। दूध हमारे शरीर को पोषण प्रदान करता है। हल्दी वाला दूध पीने से गले को आराम मिलता है और खराश कम हो जाती है।

५) आयुर्वेदिक काढ़ा-

अदरक, दालचीनी, लौंग, इलायची, तुलसी के पत्ते, काली मिर्च इन सबको थोड़ी-थोड़ी मात्रा में एक गिलास पानी में डालकर उबाल लें। पानी तब तक उबालें, जब तक वह आधा ना हो जाए। इसमें स्वाद अनुसार शहद मिलाकर पी लें। इस आयुर्वेदिक काढ़ा को पीने से आपके गले को बहुत आराम मिलता है। गले में हो रहा दर्द कम हो जाता है। गले में खराश नष्ट हो जाती है और बलगम गल जाता है।

६) धूम्रपान ना करें-

धूम्रपान तथा तंबाकू का सेवन सीधा हमारे फेफड़ों पर बुरा असर डालता है। इससे हमें काफी स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसीलिए, अगर आपके गले में खराश या बलगम जमा हो रहा हो; तो धुम्रपान तुरंत बंद करें। इसी के साथ, तंबाकू का सेवन और शराब का सेवन भी नहीं करना चाहिए। यह सब बुरी आदतें हैं और इनसे आपके शरीर पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता है।

७) प्रदूषण से बचे-

कई सारे लोगों को प्रदूषण की वजह से गले में खराश और बलगम जमा होता है। इसीलिए, ऐसे लोगों को लिए महत्वपूर्ण है; कि वह प्रदूषण वाली जगह पर जाने से बचे। बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण हो, तो नाक पर मास्क का इस्तेमाल जरूर करें। इसी के साथ, धूल मिट्टी से बचने के अनेक उपाय है उनका भी पालन करें।

दोस्तों, वैसे तो गले में खराश होना और बलगम जमा होना एक आम समस्या मानी जाती है। लेकिन, अगर यह ज्यादा बढ़ गई तो इससे कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। इसीलिए, बेहतर होगा कि आप तुरंत इस पर घरेलू नुस्खे आजमा कर इलाज शुरू कर दे। घरेलू नुस्खे आजमाने के बाद भी अगर आपकी समस्या दूर ना हो रही हो, तो आप तुरंत डॉक्टर की सलाह लें। डॉक्टर द्वारा बताए गए दिशा निर्देशों का अवश्य पालन करें।

तो दोस्तों, आज के लिए बस इतना ही। उम्मीद है, आपको आज का यह ब्लॉग गले में खराश और बलगम आना, अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

अधिक पढ़ें : पेठा खाने के फायदे और नुकसान

Leave a Comment

error: Content is protected !!