सालम पंजा के फायदे और नुकसान

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप? आज का हमारा विषय है, सालम पंजा के फायदे और नुकसान,हमारे भारत देश में आयुर्वेद शास्त्र पर बहुत सारा संशोधन हुआ है और अभी भी चल रहा है। आयुर्वेद में ऐसी बहुत सारी जड़ी बूटियां है; जिनका इस्तेमाल करने से पुरानी से पुरानी बीमारी से आपको छुटकारा मिल सकता है। हम आज ऐसे ही एक जड़ी बूटी के बारे में बात करनेवाले हैं। दोस्तों, आज हम बात करने वाले हैं सालम पंजा के फायदे और नुकसान के बारे में। सालम पंजा एक जड़ी बूटी है, जो पहाड़ों में उगाई जाती है। सालम पंजा गुणों से भरपूर होती है और कई विकारों का निवारण करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है।

सालम पंजा “सालम मिश्री” के नाम से भी जानी जाती है। सालम पंजा हिमालय और तिब्बत के इलाकों में ९ से १२ फीट ऊंचाई पर उगाई जाती है। भारत में इसकी आवक अफगानिस्तान और इराक से होती है। यह आयुर्वेदिक मेडिसिंस तथा जड़ी बूटियों के दुकानों पर आसानी से मिल जाती है। सालम पंजा बहुत ही गुणकारी और शक्तिशाली जड़ी बूटियों में से एक है। सालम पंजा बल वीर्य वर्धक, पचन संस्था को मजबूत करनेवाली, शुक्र वर्धक के लिए बहुत ही पौष्टिक जड़ी बूटी है।

सालम पंजा के फायदे

सालम पंजा को अकेले या किसी अन्य घटकों के साथ मिलाकर इसका उपयोग किया जाता है। सालम पंजा का चूर्ण दूध में उबालकर इसका दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसी के साथ, यूनानी दवाइयों को बनाने में भी इसका इस्तेमाल करते हैं।

१) समुद्र यात्रा-

पश्चिमी देशों के लोग अक्सर समुद्र यात्रा पर जाते रहते हैं। वह इस यात्रा के दौरान सालम पंजा के चूर्ण का सेवन करते हैं। दो चम्मच सालम पंजा का चूर्ण पानी में उबालकर पीने से उनको शक्ति मिलती है और भूख कम लगती है।

२) मांसपेशियों का दर्द-

कई लोगों को अक्सर मांसपेशियों में दर्द होता है। लंबे समय से मांसपेशियों में हो रहे दर्द को कम करने के लिए; सालम पंजा का चूर्ण और पिपली का चूर्ण समान मात्रा में मिलाकर रात में दूध के साथ पी सकते है। इससे आपके मांसपेशियों में हो रहे दर्द से आपको राहत मिलेगी।

३) वात रोग-

अगर आपको वात रोग की तकलीफ है, तो सालम पंजा आपके लिए काफी मददगार साबित हो सकता है। इसके लिए आपको पीपल और सालम पंजा दोनों को मिलाकर अच्छे से पीसकर चूर्ण बना लेना चाहिए। इस चूर्ण को सुबह और शाम दूध के साथ लेने से आपको वात रोग से छुटकारा मिल सकता है।

४) शुक्रमेह-

बदली हुई जीवनशैली की वजह से आजकल मर्दों में शीघ्रपतन, यौन संबंधित कमजोरी, स्वप्नदोष, शुक्रमेह जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ता है। १०० ग्राम सफेद मूसली, १०० ग्राम काली मूसली और १०० ग्राम सालम पंजा को लेकर अच्छे से पीसकर उसका चूर्ण बना लें और एक बोतल में भर ले। इस मिश्रण को सुबह शाम आधा चम्मच हल्के गुनगुने मीठे दूध में मिलाकर पीने से यौन संबंधित समस्याओं से राहत मिलती और यौनशक्ति बढ़ती है।

५) क्षय रोग-

क्षय रोग होने से मरीज काफी कमजोर हो जाते हैं। क्षय रोग में सांस फूलना, सांस लेने में तकलीफ होना, बलगम की वजह से छाती में दर्द होना ऐसी तकलीफों का सामना करना पड़ता है। जैसे कि हम जानते हैं, सालम पंजा बलवर्धक होता है। इसीलिए, क्षय रोग के लिए मरीजों के लिए यह काफी बेहतर औषधि साबित होती है। १०० ग्राम सालम पंजा और २०० ग्राम बादाम को मिलाकर अच्छे से पीस लें। इस चूर्ण को १० ग्राम सुबह खाली पेट और रात को सोने से पहले लेने से कमजोरी दूर हो जाती है।

६) प्रदर रोग-

श्वेत प्रदर की वजह से महिलाएं काफी परेशान रहती है। इस समस्या से निजात पाने के लिए आप सालम पंजा का उपयोग कर सकती हैं। इसके लिए आपको; शतावरी, सालम पंजा, सफेद मूसली इन सबका चूर्ण ५०-५० ग्राम लेकर उनको अच्छे से मिला ले। इस चूर्ण को सुबह और रात को १-१ चम्मच हल्के गुनगुने मीठे दूध के साथ लेना है। इसको लेने से श्वेत प्रदर की वजह से होने वाले बदन दर्द और कमर दर्द को कम करने में काफी मदद मिलती है।

७) अतिसार-

सालम पंजा का इस्तेमाल पुराने से पुराना अतिसार ठीक करने में प्रभावी साबित होता है। अतिसार से छुटकारा पाने के लिए आपको सालम पंजा का महीन चूर्ण १-१ चम्मच सुबह, दोपहर, शाम को छांछ के साथ लेना चाहिए। इसका इस्तेमाल करते समय आपको खाने में दही चावल का ही सेवन करना है।

सालम पंजा के नुकसान

दोस्तों, हर एक सिक्के के दो पहलू होते हैं। जैसे हर चीज के फायदे होते हैं, वैसे ही उसके नुकसान भी हो सकते हैं। वैसे ही सालम पंजा के जैसे अनगिनत फायदे हैं, उसको खाने से आपको कुछ नुकसान भी हो सकते हैं।

  1. सालम पंजा का सेवन करने से कई लोगों को एलर्जी भी हो सकती हैं। उसमें सिर दर्द होना, उल्टी होना, बुखार आना, गैस होना, त्वचा पर चकत्ते होना आदि समस्याएं शामिल है।
  2. सालम पंजा का उचित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए। इसका अधिक सेवन करने से आपको कब्ज की समस्या उत्पन्न हो सकती हैं।
  3. सालम पंजा का अधिक मात्रा में सेवन करने से आपकी आंतो को नुकसान पहुंच सकता है।

दोस्तों, आज के लिए बस इतना ही। उम्मीद है, आपको आज का यह ब्लॉग अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

अधिक पढ़ें : पेठा खाने के फायदे और नुकसान

Leave a Comment

error: Content is protected !!