पीरियड के दौरान नहाना चाहिए या नहीं

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप? आज का हमारा विषय है पीरियड के दौरान नहाना चाहिए या नहीं,हमारे देश में संस्कृति और प्रथाओं को काफी महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। आज भी भारत के ग्रामीण इलाकों में लोग अपने प्रथाओं, संस्कृतियों को बहुत ही मानते हैं। इस देश के वासी होने के कारण, इन प्रथा और संस्कृति पर हमें नाज ही हैं। वहीं दूसरी ओर, इन्हीं रूढ़ीवादी परंपराओं और प्रथाओं को लेकर समाज में नाराजगी भी देखे जाते हैं। कई बार इन प्रथा और परंपराओं का ज्यादातर महिलाओं को ही सामना करना पड़ता है और खामियाजा भुगतना पड़ता है। आज भी हमारे समाज में महावारी को लेकर खुलकर चर्चा करने से लोग कतराते हैं। यहां तक कि महिलाएं भी आपस में महावारी के बारे में बात करने से डरती हैं, हिचकिचाती हैं।

दोस्तों, आज हम हमारे भारतवर्ष के आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। लेकिन, आज भी भारत के कई इलाकों में मासिक धर्म को लेकर कई सारी मिथक बातों का पालन किया जाता है। इन मिथको की वजह से महिलाओं को बहुत तकलीफ होती है। दादी, नानी के जमाने से चलते आ रहे इन मिथकों में से एक मिथक है, पीरियड्स के दौरान नहाना नहीं चाहिए। जी हां! पीरियड्स के दौरान महिलाओं को अधिक साफ सुथरा होने की जरूरत होती है; जिससे वह किसी भी संक्रमण को अपने आप से दूर रख सकती हैं। लेकिन, इसी मिथक की वजह से कई सारी महिलाएं माहवारी के दौरान योनि मार्ग के संक्रमण का सामना करती हैं। यह बात पूरी तरह से गलत है। तो आज हम चर्चा करेंगे, माहवारी के दौरान नहाना चाहिए या नहीं।

पीरियड्स के दौरान नहाना क्यों है जरूरी-

सबसे पहले तो खुद की हाइजीन मेंटेन रखने के लिए पीरियड्स के दौरान नहाना बहुत ही जरूरी होता है। पीरियड आने पर हमें मांसपेशियों की ऐंठन, जोड़ों के दर्द, कमर दर्द, पेट दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इन सभी समस्याओं का प्रभाव कम करने के लिए गर्म पानी से नहाना बहुत ही फायदेमंद साबित होता है।

अक्सर महिलाएं पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस में रहती हैं। इस तनाव को कम करने के लिए और अपना मूड रिफ्रेश करने के लिए पीरियड्स के दौरान दिन में दो बार नहाना चाहिए। वहीं दूसरी ओर, पीरियड्स में नहाने से हम किसी भी संक्रमण से बच सकते हैं।

जैसे कि हम जानते हैं, कि मासिक धर्म के दौरान हमारे योनि मार्ग से खून निकलते रहता है और दो से तीन दिन तक हेवी ब्लड फ्लो रहता है। इसी कारण, हमारी हाइजीन पर भी असर पड़ता है। इस हाइजीन को अच्छे से मेंटेन करने के लिए नहाना सबसे अच्छा विकल्प साबित होता है। पीरियड्स के दौरान अगर आप नहीं नहाते हैं; तो आपको आगे जाकर कई सारी स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए, बेहतर है, कि पीरियड्स के दौरान नहाए और अपने आप को किसी भी संक्रमण से दूर रखें।

पीरियड के दौरान नहाने का सही तरीका-

 कई महिलाएं ठंड के दिनों में, पीरियड्स के दौरान नहाने के लिए हद से ज्यादा गर्म पानी का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन, इससे पीरियड साइकिल पर भी बुरा असर पड़ता है और त्वचा पर भी! इसीलिए, हर मौसम में पीरियड्स के दौरान नहाने के लिए हल्के गुनगुने से थोड़ा गर्म पानी का इस्तेमाल करना चाहिए। दरअसल, पीरियड के दौरान दिन में दो बार नहाना उचित होता है। ऐसा करने से पैड की वजह से योनि के आजू-बाजू में लगा खून साफ करने में हमें मदद मिलती हैं। पीरियड के दौरान सही तरीके से नहाने से हमारे पीरियड साइकिल पर भी उसका कोई बुरा असर नहीं पड़ता है, हमारा मूड फ्रेश होता है तथा पीरियड के दौरान होने वाले दर्द से भी काफी हद तक राहत मिलती हैं।

पीरियड के दौरान नहाते समय किन बातों का ध्यान रखें-

पीरियड के दौरान नहाते समय कुछ चीजों का ध्यान रखने से महिलाएं संक्रमण से बच सकती हैं।

१) सेंधा नमक पानी में डालकर नहाएं-

सेंधा नमक  एक तरह का प्राकृतिक दर्द निवारक होता है। इसीलिए, पीरियड के दौरान होने वाले मांसपेशियों की ऐंठन, पेट दर्द तथा कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए नहाने के पानी में सेंधा नमक डालकर नहाए। ऐसा करने से आप संक्रमण से भी बच सकती हैं और पीरियड के दौरान होने वाले दर्द में भी आप को राहत मिल सकती हैं।

२) गर्म पानी का इस्तेमाल-

पीरियड के दौरान नहाते समय गर्म पानी का इस्तेमाल करना चाहिए। लेकिन ध्यान रहे, हद से ज्यादा गर्म पानी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है और आपके मेंस्ट्रूअल साइकिल में भी बाधा डाल सकता है। पीरियड के दौरान गर्म पानी से नहाने से हमारे मांसपेशियों को आराम मिलता है, मांसपेशियों का लचीलापन बढ़ता है और पीरियड क्रैंप्स में भी राहत मिलती है।

३) नहाने से पहले पैड निकाले-

कई महिलाए नहाते समय पैड या मेंस्ट्रुअल कप का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन, यह गलत है। नहाते समय पैड को निकालना चाहिए और नहाने के बाद नए पैड़ का इस्तेमाल करना चाहिए। नहाते समय रक्त स्त्राव होता है, तो होने दे। अपने योनि को अच्छे से साफ करें। नहाने के बाद सूखे तौलिए से अपनी योनि को ड्राई करें और नए पैड का इस्तेमाल करें।

४) योनि की सफाई-

पीरियड्स के दौरान योनि से रक्तस्राव होने के कारण योनि की साफ-सफाई बहुत ही जरूरी हो जाती हैं। योनि को उचित तरीके से साफ ना करने की वजह से पीरियड के दौरान महिलाओं में कई सारे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। इसीलिए, नहाते समय अपने योनि को हल्के गुनगुने पानी के मदद से अच्छे से साफ करें। योनि को साफ करने के लिए केमिकल वाले प्रोडक्ट इस्तेमाल करने से बचें। योनि को साफ करने के लिए केमिकल वाले खुशबूदार प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने से आपकी योनि का पीएच स्तर बिगड़ सकता है; इससे संक्रमण का खतरा और बढ़ सकता है।

५) अंडरवियर-

पीरियड्स के दौरान योनि के आसपास हमेशा ही गीलापन बना रहता है। कई बार इस गीलेपन और नमी की वजह से योनि में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। इसीलिए, नहाते वक्त अपनी योनि को अच्छे से साफ करें और तौलिए की मदद से उसको सुखाने की कोशिश करें। महिलाओं को हमेशा ही कॉटन के अंडरवियर का इस्तेमाल करना चाहिए। क्योंकि, यह कंफर्टेबल और ब्रीदेबल होते हैं; जिस कारण हमारे प्राइवेट पार्ट के आसपास का संक्रमण का खतरा टलता है।

पीरियड के दौरान नहाने के फायदे

जो लोग कहते हैं, कि पीरियड के दौरान नहाना गलत बात है और पुराने परंपराओं के मुताबिक चलते हैं; उनको आगे जाकर स्वास्थ्य संबंधित कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में, बेहतर है; कि पीरियड्स के दौरान सही तरीके से नहाए और इससे होने वाले फायदे को उठाएं।

१) सबसे पहले तो महावारी के दौरान महिलाओं को कई शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। जैसे; मांसपेशियों की ऐंठन, मांसपेशियों में खिंचाव, पेट दर्द, कमर दर्द, जोड़ों का दर्द इन सभी समस्याओं के लिए गर्म पानी से नहाना बहुत ही फायदेमंद साबित होता है।

२) मासिक धर्म के दौरान लगभग ३-४ दिनों तक महिलाओं को लगातार पैड का इस्तेमाल करना पड़ता है। ऐसे में, स्किन रैशेज, खुजली, जलन जैसी परेशानियों का सामना करती हैं। स्किन संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए पीरियड्स के दौरान नहाना बहुत ही उचित विकल्प साबित होता है।

३) मासिक धर्म के दौरान बैक्टीरियल इंफेक्शन और मूत्र मार्ग से संबंधित संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। ऐसे में, मासिक धर्म के दौरान सही तरीके से नहाने से इन संक्रमण के खतरे को कम किया जा सकता है।

दोस्तों, मासिक धर्म के दौरान नहाने से शरीर पर कोई भी बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। बल्कि, इससे शरीर कई सारी परेशानियों से मुक्त हो सकता है। इसीलिए खासकर महिलाएं इस लेख को पढ़ें और इसमें बताई सभी जानकारी को अपनाएं। ऐसा करने से आप कई सारे संक्रमण के खतरे को टाल सकती हैं।

तो दोस्तों, आज के लिए बस इतना ही। उम्मीद है, आपको आज का पीरियड के दौरान नहाना चाहिए या नहीं यह ब्लॉग अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

अधिक पढ़ें : पीरियड्स में दूध पीना चाहिए या नहीं

Leave a Comment

error: Content is protected !!