पति पत्नी को किस दिशा में सोना चाहिए वास्तु के अनुसार

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप?आज हम चर्चा करने वाले हैं पति पत्नी को किस दिशा में सोना चाहिए वास्तु के अनुसार, दोस्तों, हमारी भारतीय संस्कृति बहुत ही प्राचीन है और उसमें ज्ञान का भंडार भरा हुआ है। आयुर्वेद, योग, प्राणायाम, पंचकर्म, वास्तु शास्त्र जैसे कई शास्त्रों पर भारतीय संस्कृति में पुराने जमाने से रिसर्च होते आ रहा है। आज भी लोग इन संस्कृतियों तथा शास्त्र को मानकर जीवन जीते हैं। वास्तुशास्त्र ऐसे ही कलाओं में से एक हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर बनाने से या कोई भी कार्य करने से उसमें आपको सफलता मिलती है। अगर वास्तु शास्त्र के अनुसार कुछ चीजें ना हो, तो उससे परेशानियां भी खड़ी हो सकती है। इसी के साथ, वास्तु दोष निवारण करने के लिए भी बहुत सारे उपाय मौजूद होते हैं।

 दोस्तों, आज हम जानेंगे कि पति-पत्नी को वास्तु के अनुसार किस दिशा में सोना चाहिए। जी हां! वास्तु शास्त्र के अनुसार सही दिशा में सोने से पति-पत्नी के जीवन में खुशहाली आती है और उनका जीवन समृद्धि से भर जाता है। इसी के साथ, वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर पति पत्नी नहीं सोते हैं; तो उससे भी उनके जीवन के ऊपर काफी विपरीत परिणाम दिखाई देते हैं। तो आज हम वास्तु शास्त्र के अनुसार पति पत्नी को किस दिशा में सोना चाहिए इस बारे में चर्चा करेंगे।

वास्तु शास्त्र के अनुसार पति पत्नी को किस दिशा में सोना चाहिए

वास्तु शास्त्र के अनुसार, पति पत्नी के जोड़े को या प्रेमी युगल को सोते समय अपना सिर दक्षिण दिशा की ओर रखना चाहिए। सोते समय सिर उत्तर दिशा की ओर नहीं रहना चाहिए। ऐसा करने से आपके जीवन में प्रेम बना रहता है और खुशहाली आती है। इसी के साथ, पति पत्नी को हमेशा ही दक्षिण, दक्षिण पश्चिम या दक्षिण पूर्व दिशा की ओर सिर करके सोना चाहिए। इसके विपरीत अगर आप सोते हैं, तो आपके जीवन में इसका नकारात्मक प्रभाव होता है और क्लेश उत्पन्न हो सकते हैं। इसीलिए, इस बात का हमेशा ही ध्यान रखें; कि आप सोते समय अपना सिर दक्षिण दिशा की ओर रखें।

पति पत्नी के सोने का तरीका-

वास्तु शास्त्र के अनुसार, पत्नी को हमेशा पति के बायी ओर सोना चाहिए। हमारी संस्कृति में ऐसा माना जाता है, कि पत्नी पति का बाया अंग होती हैं। ऐसा करने से पति पत्नी के दांपत्य जीवन में हमेशा ही प्यार और अपनापन बना रहता है। इसी के साथ, उस दाम्पत्य के जीवन में तालमेल और संतुलन बना रहता है।

नवदम्पत्ति ध्यान रखें-

 नई नई शादी होने के बाद पति पत्नी को एक दूसरे की तरफ काफी आकर्षण महसूस होता है। वह अपने कामजीवन का भरपूर आनंद ले रहे होते हैं। ऐसे में अगर नव दंपत्ति अपना बेड उत्तर पूर्व दिशा के कमरे में या कमरे के उत्तर पूर्व कोने में लगाएं; तो उससे विपरीत परिणाम हो सकता है। वास्तु शास्त्र के आधार पर, उत्तर पूर्व दिशा का स्वामी गुरु माना जाता है और गुरु कामेच्छा के उत्साह में कमी लाता है। इस वजह से नव दंपत्ति का कामजीवन नीरस हो सकता है और उनमें अनबन आ जाती है।

पति पत्नी साथ सोने के लाभ-

वास्तु शास्त्र के अध्ययन से यह देखा गया है, कि पति पत्नी अगर साथ सोते हैं; तो उससे उनमें हमेशा ही प्रेम और रिश्ते में संतुलन बना रहता है। एक साथ सोने से नज़दीकियां भी बढ़ती है और रिश्ते में तनाव कम होने में मदद मिलती है। ऐसा देखा गया है, कि जैसे उम्र ढलती जाती है; वैसे पति पत्नी अलग सोते हैं। उसके कारण अलग अलग हो सकते हैं। लेकिन प्रयास करें, कि जीवनभर ही आप एक साथ सोए।

पति पत्नी हमेशा ही सोए लकड़ी के बेड पर-

पति पत्नी किस दिशा में सोते हैं, इसी के साथ कई अलग चीजें भी मायने रखती है। जैसे; पति पत्नी को किस धातु से बने बेड पर सोना चाहिए! पति पत्नी को हमेशा ही लकड़ी से बने बेड पर सोना चाहिए। लकड़ी सभी नकारात्मक ऊर्जा को अवशोषित कर लेती है और इससे पति-पत्नी में कोई भी गलतफहमियां नहीं रहती हैं। उनका जीवन खुशहाल और समृद्ध होता है। आजकल मार्केट में अलग-अलग तरह के मेटल के बेड देखने को मिलते हैं और कई सारे कपल उनको खरीदते भी है। लेकिन, वास्तु शास्त्र के अनुसार यह गलत है।

ऐसा सोकर बढ़ाएं प्रेम के प्रति उत्साह-

कई बार बहुत सारे कपल्स में कामेच्छा की कमी देखने को मिलती है। इस वजह से उनमे हमेशा ही वाद-विवाद और तनावपूर्ण वातावरण बना रहता है। ऐसे पति-पत्नी को दक्षिण पूर्व दिशा के कमरे में सोना चाहिए या या अपने बेड को उस दिशा में लगाना चाहिए। इस दिशा में अग्नि का वास होता है और शुक्र का प्रभाव माना जाता है। इसीलिए, इस दिशा में सोने की वजह से वह दांपत्य काम जीवन का अच्छे से लाभ उठा सकते हैं। दांपत्य जीवन के प्रति  उत्साह और ऊर्जा महसूस कर सकते हैं।

सूखी वैवाहिक जीवन के लिए वास्तु के टिप्स-

वास्तुशास्त्र पति पत्नी के वैवाहिक जीवन पर काफी गहरा प्रभाव डालता है। वास्तु शास्त्र के कुछ टिप्स अपनाने से आपके वैवाहिक जीवन को आप खुशहाल बना सकते हैं।

१) पति पत्नी के बेडरूम की दीवारों पर हल्के, सुकूनभरे रंग लगाने चाहिए। हल्के रंग लगाने से बेडरूम में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती हैं।

२) बेड के ऊपर एक ही गद्दे को बिछाएं और एक ही रजाई का इस्तेमाल करें। इससे पति पत्नी ने नजदीकियां बढ़ती है।

३) बेडरूम में हमेशा तरोताजा फूलों का गुलदस्ता रखें।  

४) दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सोने से पति पत्नी एक दूसरे के काम जीवन का अच्छे से लाभ उठाते हैं।

५) वास्तु शास्त्र के आधार पर, अच्छी गुणवत्ता वाली लकड़ी के बेड का ही इस्तेमाल करें।

६) अपने बेडरूम में हमेशा ही फ्रेश वातावरण रखें। 

 वास्तु शास्त्र के इन टिप्स को अपनाकर पति पत्नी को काफी लाभ मिलता है। इसी के साथ, वास्तु शास्त्र के आधार पर बताई गई दिशा निर्देशों के अनुसार सोने से पति-पत्नी के रिश्ते में तनाव नहीं आता है और वह खुशहाल जीवन जीते हैं।

उम्मीद है दोस्तों, आपको आज का पति पत्नी को किस दिशा में सोना चाहिए वास्तु के अनुसार यह ब्लॉग अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

अधिक पढ़ें : किचन का वास्तु दोष दूर करने के उपाय

Leave a Comment

error: Content is protected !!