नाक में जलन के घरेलू उपाय

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप? आज का हमारा विषय है नाक में जलन के घरेलू उपाय, पिछले कुछ सालों से वातावरण में प्रदूषण काफी बढ़ता जा रहा है। इस प्रदूषण की वजह से ग्लोबल वॉर्मिंग, मौसम में आने वाले लगातार बदलाव इन सभी समस्याओं का मानव जाति को सामना करना पड़ रहा है। यह समस्याएं कम थी; कि उसमें दो सालो पहले एक और समस्या बढ़ गई, कोविड वायरस की! नाक या गले से संबंधित कुछ भी गड़बड़ी हो जाए; तो हम तुरंत डर जाते हैं। क्योंकि, कोविड के लक्षण बहुत ही सामान्य फ्लू के लक्षण के जैसे होते हैं। कमजोर रोगप्रतिकारक शक्ति होने के कारण लोग किसी भी इंफेक्शन के लिए ससेप्टिबल हो जाते हैं। कमजोर इम्यूनिटी, प्रदूषण बढ़ने के कारण और मौसम में बदलाव होने के कारण लोग विभिन्न प्रकार के विकारों का शिकार होते जा रहे हैं। 

इसमें एलर्जी, वायरल इनफेक्शन, त्वचा संबंधित समस्याएं काफी हद तक बढ़ती जा रही हैं। एलर्जी की वजह से सर्दी, खांसी, जुकाम, गले में खराश, फेफड़ों का संक्रमण आदि समस्याएं उत्पन्न होती है। नाक में जलन होना एक तरह की एलर्जी या इंफेक्शन हो सकता है। नाक में जलन एलर्जीक राइनाइटिस, हाय फीवर तथा साइनस इन्फेक्शन की वजह से हो सकती है। नाक में जलन होने के कारण हम काफी असहज महसूस करते हैं और कभी-कभी यह समस्या बहुत ज्यादा बढ़ जाती है। तो दोस्तों, आज हम चर्चा करने वाले हैं नाक में जलन होने के कारण तथा उसके लिए घरेलू नुस्खों के बारे में। 

नाक में जलन होने के कारण

एलर्जी तथा मौसम में बदलाव के साथ-साथ नाक में जलन होने के कई कारण हो सकते हैं।

१) नेजल इंफेक्शन-

साइनसाइटिस जैसे नाक के संक्रमण में म्यूकस नाक के छिद्रों में फंस जाता है और वही कई तरह के बैक्टीरिया पनपते हैं। इस वजह से संक्रमण बढ़ता रहता है और नाक में जलन होती है। इसी कारण, नाक में दर्द तथा साइनस का प्रेशर भी महसूस होता है। साइनोसाइटिस जैसे नेजल इन्फेक्शन नाक की जलन के लिए काफी हद तक कारक होते हैं।

२) मौसम में बदलाव-

कुछ लोगों को मौसम बदलते ही एलर्जी की तकलीफ होने लगती है। इसी एलर्जी के चलते नाक में जलन हो सकती है। मौसम में बदलाव आते ही हवा में शुष्कता आ जाती है। शुष्क हवा की वजह से हमारे नाक का म्यूकस मेंब्रेन भी ड्राई हो जाता है और नाक में जलन होना शुरू हो जाता है।

३) प्रदूषण-

जब भी हम सांस लेते हैं, तो उसके साथ वातावरण में मौजूद हानिकारक घटक हमारे शरीर में चले जाते हैं। वातावरण में तरह-तरह के हानिकारक गैस, धूल, धुआं, टॉक्सिंस मौजूद होते हैं। यह हमारे शरीर के अंदर जाने से हमारे फेफड़ों को नुकसान पहुंचाते हैं और नाक में जलन जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती है।

४) एलर्जिक राइनाइटिस-

प्रदूषण, धूल, धुआं, टॉक्सिंस, पोलन ऐसे कई एलर्जन की वजह से एलर्जिक रायनिटिस की समस्या उत्पन्न होती है। इसी समस्या के कारण नाक में जलन तथा खुजली होना शुरू हो जाती है। मौसम के बदलाव के साथ यह समस्या बढ़ती है और खांसी, गले में दर्द होने लगता है।

नाक में जलन के लक्षण-

सिरदर्द, नाक बहना, बुखार, सर्दी, नाक में जकड़न, नाक में खुजली, नाक की अंदरूनी त्वचा लाल होना, सांस लेने में दिक्कत आदि नाक में जलन के लक्षण होते हैं।

नाक में जलन के घरेलू उपाय

नाक में जलन होने के बाद उसको ठीक करने के लिए आप कुछ घरेलू नुस्खे आजमा सकते हैं; इनसे आप को काफी राहत मिलती है।

१) पेय पदार्थों का सेवन-

नाक में जलन होने पर पेय पदार्थों का सेवन अधिक मात्रा में करना चाहिए। इनका सेवन करने से हमें आराम मिलता है, म्यूकस पतला होता है और ड्रेनेज बढ़ता है। इससे नाक में ड्राइनेस की वजह से हो रही जलन काफी हद तक कम हो जाती है। लेकिन ध्यान रखें, कैफ़ीन तथा अल्कोहल युक्त पदार्थों का सेवन ना करें। क्योंकि, यह पदार्थ आपको डीहाइड्रेट करते हैं और नाक में ड्राइनेस को बढ़ाते हैं; जिससे जलन की समस्या अधिक बढ़ सकती हैं।

२) नारियल तेल-

रोज रात को सोने से पहले एक से दो बूंद नारियल का तेल नाक में डालने से नाक में हो रही जलन तथा सूजन से काफी राहत मिलती है। नारियल तेल मॉइश्चराइजर की तरह काम करता है। इसके इस्तेमाल से नाक की ड्राइनेस कम होकर वहां नमी बनी रहती है; जिससे जलन और खुजली जैसी समस्याओं से निजात पा सकते हैं।

३) स्टीम-

एक पतले में पानी गर्म करके अपने सिर पर तौलिया रखकर इस पानी से भाप लेनी चाहिए। ऐसा करने से नाक की जलन से आपको काफी राहत मिलती है, नाक तथा गले को आराम मिलता है। अगर आप चाहे तो इसमें विक्स वेपरब भी डाल कर स्टीम ले सकते हैं।

४) घी-

कभी-कभी गर्मी की वजह से की हमारे नाक में जलन होती है। ऐसे में आप घी का प्रयोग कर सकते हैं। अपनी उंगलियों से नाक में दिन में दो से तीन बार घी लगाने से नाक में हो रही जलन से काफी राहत मिलती है। इसी के साथ, नाक की अंदरूनी त्वचा लाल होना, नाक में खुजली होना इन समस्याओं के लिए भी घी का इस्तेमाल किया जा सकता है। घी नाक को नमी प्रदान करता है और ड्राइनेस दूर करता है।

५) अन्य उपाय-

ऊपर दिए गए घरेलू नुस्खों के साथ साथ कुछ अन्य चीजों का भी आपको ध्यान रखना चाहिए। जिन लोगों को धूल धुआं प्रदूषण से एलर्जी है; ऐसे लोगों को ऐसी जगह से बचना चाहिए। अगर जाना बहुत ही जरूरी है, तो चेहरे पर मास्क लगाना ना भूलें। अपने खानपान का विशेष ध्यान रखें; क्योंकि कुछ लोगों को ठंडी चीजों से भी एलर्जी होती है। इसीलिए, ठंडी चीजों से परहेज करें। अस्थमा तथा दमा के मरीजों एलर्जी की तुरंत तकलीफ होने लगती है। इसीलिए, ऐसे मरीजों को बदलते मौसम के साथ अपना ध्यान रखना जरूरी होता है। ईसी के साथ, एलर्जीक मरीजों को अपने हायजिन का ख्याल रखना चाहिए। समय-समय पर अपने हाथ साफ करते रहना चाहिए; जिससे कि वह किसी भी संक्रमण से बचे रहें।

दोस्तों, आज के लिए बस इतना ही। उम्मीद है, आपको आज का नाक में जलन के घरेलू उपाय यह ब्लॉग अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

अधिक पढ़ें : फेस पैक फॉर ब्लैक स्किन

Leave a Comment

error: Content is protected !!