नाभि में सरसो का तेल लगाने से क्या होता है ?

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप? आज का हमारा विषय है,नाभि में सरसो का तेल लगाने से क्या होता है,दोस्तों, हमारी भारतीय परंपरा बहुत ही प्राचीन है और इसमें रोगों के लिए हर संभव इलाज मिल जाता है। हमारी दादी, नानी, हमारे पूर्वज आज भी घरेलू नुस्खों को आजमा कर रोगों पर नियंत्रण पा लेते हैं। आयुर्वेद में ऐसा कहा जाता है, कि हमारे पूरे ही शरीर का केंद्र बिंदु नाभि होता है।

पुराने जमाने से ही नाभि में सरसों का तेल का उपयोग करते आ रहे हैं। सरसों का तेल नाभि में लगाने से शरीर की बहुत सारी समस्याओं के ऊपर नियंत्रण पा सकते हैं। नाभि में सरसों का तेल लगाने से लगभग शरीर के हर अंग को पोषण पहुंचाया जा सकता है। नाभि में तेल लगाने से चमत्कारिक फायदों का लाभ उठाया जा सकता है। तो दोस्तों, आज जानेंगे नाभि में तेल लगाने से कौन से फायदे होते हैं।

नाभि में सरसो का तेल लगाने के फायदे

औषधीय गुणों से भरपूर सरसों का तेल नाभि में लगाने से काफी फायदे मिलते हैं। नाभि में सरसों का तेल लगाने से हमारी त्वचा, मस्तिष्क, प्रजनन क्षमता, आंखें और पाचन तंत्र मजबूती से काम करता है।

१) बालों की देखभाल-

सरसों के तेल में एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं। नाभि में सरसों का तेल लगाने से बालों का झड़ना नियंत्रित किया जा सकता है। अगर आपको रोज सरसों का तेल बालों में लगाने का टाइम नहीं मिलता है, तो नाभि में सरसों का तेल लगा लें; इससे आपके बालों को काफी पोषण मिल जाता है।

इसी के साथ, सरसों का तेल नाभि में लगाने से बालों में चमक आती है और वह मुलायम हो जाते हैं; उनसे डैंड्रफ कम होने में भी मदद मिलती है।

२) इंफेक्शन से बचाएं-

अक्सर कमजोर रोग प्रतिकारक शक्ति होने के कारण हम छोटे-छोटे इन्फेक्शन का शिकार हो जाते हैं। नाभि में सरसों का तेल लगाने से हम ऐसे कई इंफेक्शन से बच सकते हैं। सरसों के तेल में फंगल इंफेक्शन और बैक्टीरियल इन्फेक्शन को रोकने की क्षमता होती है। इसीलिए, नाभि में सरसों का तेल लगाना चाहिए।

३) फर्टिलिटी बढ़ाएं-

आजकल के मॉडर्न जमाने में लाइफस्टाइल में बदलाव आने की वजह से प्रजनन क्षमता पर काफी असर हो रहा है। सरसों के तेल में ट्राई ग्लिसराइड्स अधिक मात्रा में पाए जाते हैं; जिससे प्रजनन क्षमता बढ़ाने में मदद मिलती है। नाभि में सरसों का तेल लगाने से पुरुषों और महिलाओं की प्रजनन क्षमता बढ़ती है। इसी के साथ, पुरुषों में स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए भी सरसों का तेल नाभि में लगा सकते हैं।

४) हेल्दी हार्ट-

सरसों के तेल में मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड और पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं; जो हृदय के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उपयुक्त होते हैं। मानव शरीर को अगर फिट रखना है, तो उसका हार्ट हेल्दी होना बहुत जरूरी होता है। हृदय को स्वस्थ रखने के लिए खाने के साथ-साथ सरसों के तेल का इस्तेमाल नाभि में लगाने के लिए भी किया जाना चाहिए।

५) कोलेस्टेरॉल नियंत्रण-

बढे हुए कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने के लिए भी सरसों का तेल नाभि में लगाया जाता है। सरसों के तेल में अल्फा लियोलेनिक एसिड होता है; जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखने में मदद करता है। कोलेस्ट्रोल का स्तर नियंत्रित रहने से शरीर को ह्रदय संबंधित रोगों से दूर रखा जा सकता है।

६) पाचन तंत्र की मजबूती-

नाभि में सरसों का तेल लगाने से हमारा पाचन तंत्र काफी मजबूत होता है। कमजोर पाचन तंत्र की वजह से पेट में दर्द, पेट में गैस, एसिडिटी, कब्ज, दस्त, मतली, अपच जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ता है। इसीलिए, नाभि में सरसों का तेल लगाएं और अपना पाचन तंत्र को मजबूती प्रदान करें।

७) पीरियड्स का दर्द-

कई महिलाओं को माहवारी के दौरान पेट के निचले हिस्से में काफी दर्द होता है और वह असहनीय होता है। सरसों के तेल में दर्द निवारक गुण पाए जाते हैं। नाभि में सरसों का तेल लगाने से पेट में हो रहे दर्द से राहत मिलती है।

८) गठिया-

गठिया होने के बाद चलने में, उठने-बैठने में काफी तकलीफ महसूस होती है। गठिया होने के बाद जोड़ों में दर्द होता है, सूजन होती है और मांस पेशियों में ऐठन आ जाती है। सरसों के तेल में गठिया विरोधी गुण पाए जाते हैं; जो गठिया के लक्षणों को कम करने में प्रभावी होता है। रोज सुबह नाभि में सरसों का तेल लगाने से जोड़ों का दर्द और सूजन कम होने में मदद मिलती है। इससे मांसपेशियों को आराम मिलता है।

९) त्वचा निखारे-

नाभि में सरसों का तेल लगाने से हमारी त्वचा पर उसका बहुत अच्छा असर होता है। त्वचा पर आए कील, मुंहासे, पिंपल्स, दाग, धब्बे, झुर्रियां कम होने में मदद मिलती है। नाभि में सरसों का तेल लगाने से त्वचा पर निखार आता है और त्वचा की रंगत सुधारने में मदद मिलती है।

दोस्तों, कम समय में और कम मेहनत से होने वाले काम हमें बहुत ही पसंद होते हैं। इसीलिए, नाभि में रोजाना सरसों का तेल लगाया करें। यह कम समय में और कम मेहनत में आपके शरीर को बहुत सारे लाभ पहुंचाता है। उम्मीद है, आपको आज का यह ब्लॉग अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

अधिक पढ़ें : चोट लगने पर सूजन का इलाज

Leave a Comment

error: Content is protected !!