चर्म रोग में कौनसा साबुन लगाना चाहिए

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप? आज का हमारा विषय है चर्म रोग में कौनसा साबुन लगाना चाहिए,जब कोई संक्रमण मानवीय त्वचा को प्रभावित करता है, तो इसे चर्म रोग यानी स्किन डिसीसेस कहते हैं। इसके लक्षण और गंभीरता विभिन्न प्रकार के होते हैं। कई बार चर्म रोग के लक्षणों काफी सूक्ष्म होते हैं और वह अपने आप ठीक हो जाते हैं। लेकिन, कभी-कभी चर्म रोग गंभीर रूप धारण कर सकते हैं और त्वचा संबंधित बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। ऐसा कहा जाता है, कि त्वचा से एक व्यक्ति के अंतरिक स्वास्थ्य के बारे में पता चलता है। चर्म रोग दर्दयुक्त या दर्द रहित होते हैं। 

कई बार वातावरण में मौजूद हानिकारक गैसेस, प्रदूषण, धुआं, धूल और वातावरण में हो रहे लगातार बदलाव की वजह से चर्म रोग की समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। बहुत सारे लोगों को इन सभी चीजों की एलर्जी होती हैं और त्वचा पर लाल चकत्ते, रेडनेस, रैशेज, फोड़े, फुंसी आदि लक्षण दिखना शुरू हो जाते हैं। ऐसे लक्षण दिखते ही तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए। क्योंकि, यह किसी बैक्टीरियल या वायरल संक्रमण की संकेत हो सकते हैं। डॉक्टर आपको दवाइयों के साथ साथ नहाने के लिए कुछ एंटीबैक्टीरियल सोप रिकमेंड करेंगे; जिनका इस्तेमाल करके आप चर्म रोग से निजात पा सकते हैं। तो दोस्तों, आज जानेंगे चर्म रोग में कौनसा साबुन लगाना चाहिए

चर्म रोग के कारण

चर्म रोग के कारण विभिन्न प्रकार के होते हैं।

१) कमजोर इम्यूनिटी।

२) चर्म रोग से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आना।

३) एलर्जिक पदार्थों के संपर्क में आना।

४) आनुवंशिक कारक।

५) वायरल या बैक्टेरियल संक्रमण।

चर्म रोग के लक्षण

चर्म रोग के निम्नलिखित लक्षण होते हैं।

१) त्वचा में ड्राइनेस और खुरदरा पन आना।

२) लाल, सफेद चकत्ते पड़ना।

३) रेडनेस, रैशेज आना और त्वचा का छिलना।

४) दर्दनाक और खुजली वाले चकत्ते पड़ना।

५) ड्राई और फटी त्वचा। 

६) अल्सर।

चर्म रोग में इस्तेमाल किए जाने वाले साबुन-

जैसा कि हमने देखा, बैक्टीरियल और वायरल संक्रमण की वजह से चर्म रोग उत्पन्न होते हैं। इसी कारण चर्म रोग से निजात पाने के लिए एंटी बैक्टीरियल और एंटीवायरल सोप का इस्तेमाल जरूरी होता है।

१) डेटॉल एंटी बैक्टेरियल साबुन-

डिटॉल साबुन काफी पुराने जमाने से इस्तेमाल करते आ रहे हैं। यह एक भरोसेमंद एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक साबुन है। इसमें मौजूद एंटी बैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक तत्व चर्म रोग के बैक्टीरिया तथा वायरस को बढ़ने से रोकते हैं और चर्म रोग के लक्षणों से काफी हद तक राहत दिलाते हैं। यह साबुन रोजाना तौर पर पूरे परिवार को संक्रमण से बचाता है। यह डॉक्टर्स द्वारा सुझाया गया भरोसेमंद साबुन है।

२) पतंजलि नीम कांति साबुन-

नीम एक ऐसा पेड़ है, जिसका हर अंग औषधीय गुणों से युक्त होता है। नीम हमारी त्वचा के लिए बहुत ही गुणकारी होता है। पतंजलि नीम कांति सोप खासकर चर्म रोग से परेशान लोगों के लिए ही बनाया है। इस साबुन का इस्तेमाल करने से त्वचा को चर्म रोग से मुक्ति मिलती हैं और त्वचा में नमी बनी रहती हैं। यह पूरी तरीके से प्राकृतिक साबुन है और चर्म रोग में इसका इस्तेमाल बहुत ही लाभदायक होता है।

३) सेवलोन एंटीसेप्टिक साबुन-

सेवलॉन साबुन एक भरोसेमंद एंटीसेप्टिक साबुन है। यह साबुन सामान्य भारतीय लोगों के घर में इस्तेमाल किया जाता है। यह साबुन इस्तेमाल करने से त्वचा से चर्म रोग के लक्षणों को काफी राहत मिलती हैं और यह साबुन त्वचा पर कीटाणुओं को बढ़ने से भी रोकता है। चर्म रोग के लक्षणों से निजात पाने के लिए आप इस साबुन का उपयोग जरूर करें।

४) हिमालया हर्बल्स क्यूकम्बर सोप-

यह साबुन अवाकैडो ऑयल, ककड़ी और अन्य जड़ी बूटियों से समृद्ध है। इसको बनाने में किसी भी केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया गया है और यह पूरी तरीके से प्राकृतिक साबुन है। सामान्य से ऑइली स्किन के लोगों के लिए यह साबुन काफी फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद एंटीसेप्टिक तत्व बैक्टीरिया और अन्य कीटाणुओं से लड़ने में सक्षम होते हैं। चर्म रोग के लक्षणों को काफी कोमलता से हटाता है और त्वचा को नमी प्रदान करता है। इसमें मौजूद ककड़ी और नारियल का तेल त्वचा को तरोताजा महसूस कराते हैं तथा त्वचा की काफी कोमलता से सफाई करते हैं।

५) लाइफबॉय एंटी बैक्टेरियल सोप-

यह भारत का सबसे जाना माना साबुन है। नाम की तरह ही एंटीबैक्टीरियल सोप है; जिसके एंटीबैक्टीरियल तत्व त्वचा से कीटाणुओं को हटाकर त्वचा को किसी भी संक्रमण से बचाता है। चर्म रोग रोग के लक्षण जैसे; खुजली, रेडनेस, रैशेज, गर्मियों में आने वाला पसीना तथा बदबू आदि समस्याओं से यह साबुन निजात दिलाता है।

दोस्तों, चर्म रोगों को हल्के में ना लें। क्योंकि, यह समस्या दिखने में काफी छोटी दिखती है। लेकिन, इस पर तुरंत इलाज न किया जाए; तो आगे जाकर यह काफी बड़ी बीमारी में तब्दील हो जाती हैं। इसीलिए, बेहतर है कि आप तुरंत डॉक्टर की सलाह लें और उनके अनुसार अपने रोजाना इस्तेमाल किए जाने वाले साबुन का चयन करें। किसी भी एंटी सेप्टिक साबुन का इस्तेमाल आपकी त्वचा पर हानिकारक कीटाणुओं को बढ़ने से रोकता है।

तो दोस्तों, आज के लिए बस इतना ही। उम्मीद है, आपको आज का चर्म रोग में कौनसा साबुन लगाना चाहिए यह ब्लॉग अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

अधिक पढ़ें : व्हे प्रोटीन के फायदे और नुकसान

Leave a Comment

error: Content is protected !!