मसूड़ों से खून रोकने के लिए घरेलू उपचार

नमस्ते दोस्तों, कैसे हो आप?आज का हमारा विषय है मसूड़ों से खून रोकने के लिए घरेलू उपचार, हमारी बदली हुई खानपान की पद्धति की वजह से हमें बहुत सारे विकारों का सामना करना पड़ता है। जंक फूड जैसे; पिज़्ज़ा, बर्गर, हॉट डॉग और कोल्ड ड्रिंक्स खाने के बाद दांतो पर काफी वक्त तक चिपके रहते हैं। इसकी वजह से हमारे दातों में बैक्टीरिया पनपते हैं। ऐसे में दांतो की समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसी के साथ, दांतो पर प्लाक भी जम जाते हैं। इन प्लाक्स की वजह से मसूड़ों को काफी तकलीफ होती है। मसूड़ों में सूजन आ जाती है और मसूड़ों से खून बहने लगता है। वैसे तो, मसूड़ों से खून बहना काफी आम समस्या है। लेकिन अगर इस पर तुरंत ध्यान नहीं दिया; तो आगे जाकर यह बड़ी बन सकती है।

आजकल हम हमारी जिंदगी में इतने बिजी हो गए हैं, कि हमारे सेहत का ध्यान रखने का हमें टाइम ही नहीं मिलता है। दिन में दो बार ब्रश करने से हमारे दांतों की समस्या काफी हद तक कम हो जाती है। लेकिन, यह आदत बनाए रखने के लिए हमारे पास वक्त ही नहीं होता है। रात को सोने से पहले ब्रश करना काफी महत्वपूर्ण होता है। इससे आपके दातों पर जमा खाना निकल जाता हैं और दांत स्वच्छ रहते हैं। इसी के साथ, आपकी ओरल हाइजीन भी मेंटेन रहती है। दोस्तों, आज जानेंगे मसूड़ों से खून को रोकने के घरेलू उपचार।

मसूड़ों से खून आने के कारण

मसूड़ों से खून आने के कई कारण हो सकते हैं। ज्यादा दबाव देकर ब्रश करना, ओरल हाइजीन मेंटेन ना रखना, पेरिडोंटितिस, दातों की समस्याएं; जैसे दांत में कीड़ा लगना, प्लाक़्स होना, दांतों में झनझनाहट होना आदि। इन दातों की समस्याओं की वजह से मसूड़ों पर सूजन आना, शरीर में विटामिन की कमी होना, शारीरिक बीमारियां जैसे; मधुमेह, लीवर संबंधित समस्याएं, महिलाओं में हार्मोनल बदलाव इन सब कारणों की वजह से मसूड़ों से खून आता है।

मसूड़ों से खून आने के लक्षण

मसूड़े फूलना, मुंह में तथा मसूड़ों के आस पास दर्द होना, दांत हिलना, दांतो के बीच और मसूड़े के बीच ज्यादा अंतर होना, दांत ढीले होना, छूने पर मसूड़ों पर दर्द होना, मुंह से बदबू आना आदि मसूड़ों से खून आने के लक्षण होते हैं।

मसूड़ों से खून रोकने के लिए घरेलू उपाय

जैसे कि हमने देखा, मसूड़ों से खून आना काफी आम समस्या है। आम तौर पर मानव जाति की पूरी जिंदगी में कभी ना कभी मसूड़ों से खून आता ही है। लेकिन, कुछ लोगों के मसूड़ों से लगातार खून आते रहता है। ऐसे में उन पर ध्यान देना जरूरी होता है। आप उनके लिए कुछ घरेलू नुस्खे आजमा सकते हैं। इसी के साथ, फर्क ना पड़ने पर डॉक्टर के पास भी जा सकते हैं।

१) विटामिन सी का सेवन-

विटामिन सी हमारे शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए काफी गुणकारी होता है। इसी के साथ, पाचन संस्था को मजबूत करने का काम भी विटामिन सी करता है। दातों से संबंधित समस्याओं के लिए भी विटामिन से काफी असरदार होता है। विटामिन सी का उचित मात्रा में सेवन करने से दांतों की समस्या उत्पन्न नहीं होती हैं। विटामिन सी युक्त फल जैसे; संतरा, मौसंबी, नींबू, आवला, कंद, गाजर आदि का समावेश अपने रोजाना आहार में जरूर करें। विटामिन सी युक्त फलों में एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं; जो हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं। इसी के साथ, इनमें एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं; जिससे मसूड़ों से खून आना कम हो जाता है।

२) लौंग का तेल-

लौंग दातों की समस्याओं के लिए काफी प्रभावी होती हैं। लौंग का इस्तेमाल आप सीधे तौर पर दातों पर और मसूड़ों पर कर सकते हैं। लौंग का तेल गरम करें। कॉटन की मदद से लौंग का तेल अपने दांतो तथा मसूड़ों पर लगाने से काफी राहत मिलती है। लोंग के तेल मी एंटीबैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लेमेटरी तत्व पाए जाते हैं। इससे मसूड़ों में आई सूजन, दांतो की झनझनाहट, मसूड़ों से आनेवाला खून इन सभी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

३) ओरल हाइजीन-

खराब ओरल हाइजीन के चलते हमें काफी सारी दातों की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ओरल हाइजीन अच्छे से मेंटेन रखने के लिए खाना खाने के बाद कुल्ला करें, रात को सोने से पहले ब्रश करें। ओरल हेल्थ चेकअप के लिए डेंटिस्ट के पास साल भर में दो बार जरूर जाएं। इन सभी अच्छी आदतों को अपने जीवन में रोजाना अपनाएं।

४) धूम्रपान-

धूम्रपान, तंबाकू और शराब का सेवन करने से आपके दातों पर उसका बहुत बुरा असर पड़ता है। इन सभी बुरी आदतों की वजह से आपके शरीर में रोगप्रतिकारक शक्ति कम हो जाती हैं। ऐसे में आपका शरीर प्लाक के बैक्टीरिया से लड़ने में कमजोर हो जाता है और मसूड़ों की समस्या बढ़ती रहती हैं। ऐसे में धूम्रपान तथा शराब का त्याग करने से मसूड़ों से खून आना रोका जा सकता है।

५) नमक का पानी-

नमक के पानी से कुल्ला करना काफी सस्ता, प्रभावी और असरदार उपाय साबित होता है। नमक में एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीसेप्टिक तत्व पाए जाते हैं। नमक के पानी से कुल्ला करने से दांतों की और मसूड़ों की समस्याओं से काफी राहत मिलती हैं। मसूड़ों से खून आना रोकने के लिए एक गिलास पानी हल्का गुनगुना गर्म करें और उसमें नमक डालकर इस पानी से कुल्ला करें। इसका प्रयोग आप दिन में दो बार कर सकते हैं।

६) शहद-

मसूड़ों से खून रोकने के लिए अपनी उंगली पर थोड़ा सा शहर ले और मसूड़ों पर हल्के हाथों से मसाज करें। शहद में एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीबैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं। मसूड़ों पर आई सूजन, दातों का दर्द और मसूड़ों से आने वाला खून रोकने के लिए शहद का उपयोग किया जा सकता है। इसी के साथ, दातों की अन्य समस्या जैसे; झनझनाहट, दातों में हुए संक्रमण को रोकने के लिए भी शहद काफी प्रभावी होता है। इसका प्रयोग आप दिन में दो बार कर सकते हैं।

७) हल्दी-

हल्दी में एंटीसेप्टिक और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं। इसीलिए, हल्दी दांत और मसूड़ों की समस्या के लिए काफी गुणकारी होती है। एक चम्मच हल्दी, थोड़ा सा नमक और एक चम्मच सरसों का तेल अच्छे से मिलाकर उसका पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को अपने दांतो तथा मसूड़ों पर हल्के हाथों से मसाज करें। इससे आपके मसूड़ों से खून आना कम हो जाता है। इसी के साथ, मसूड़ों पर आई सूजन भी कम हो जाती है।

दोस्तों, मसूड़ों तथा दांतों की समस्याओं से दूर रहने के लिए सबसे पहले ओरल हाइजीन अच्छे से मेंटेन रखना बहुत जरूरी होता है। जैसे हम हमारे अन्य अंगों का ध्यान रखते हैं, वैसे ही दांतों और मसूड़ों का भी ध्यान रखना चाहिए। तो दोस्तों, आज के लिए बस इतना ही।

उम्मीद है, आपको आज का मसूड़ों से खून रोकने के लिए घरेलू उपचार, यह ब्लॉग अच्छा लगा हो। धन्यवाद।

अधिक पढ़ें : रातोरात पिंपल्स कैसे हटाएं , इस घरेलू उपाय से

Leave a Comment

error: Content is protected !!